दो चूत, मेरी अन्तर्वासना और चोदम चुदाई

हेल्लो मेरे प्यारे दोस्तों आप सब आ गए हो ना देखो कोई रह तो नहीं गया वरना वो ये कहानी का मज़ा नहीं उठा पाएगा | मैं हूँ अंकुर और मैं जबलपुर का रहने वाला हूँ मुझे सोना और चोदना दोनों बहुत पसंद है | मैंने अपनी जिंदगी में कई लोगों के साथ चुदाई की और उनमे से हिजड़े भी शामिल हैं | पर मुझे लड़किओं को चोदना कुछ ज्यादा ही पसंद है | उनकी चूत अगर टाइट हो तो मज़ा ही आ जाता है | मैंने अपने स्कूल में दो लड़कियों को चोदा था और वही से मेरी कहानी की शुरुआत हुयी क्यूंकि मैंने कभी पढाई के अलावा दूसरी चीजों के बारे में नहीं सोचा और जब सोचना चालु कर दिया तब मेरी ख्वाहिश बढती ही चली गयी | मैंने भी अच्छे अच्छों को पानी पिला दिया है चुदाई में और निकाल भी दिया है | तो आज की कहानी में आप जानेंगे कैसे मैं चुदक्कड़ लड़का बना और कैसे उन दोनों लड़किओं ने मुझे बिगाड़ दिया | ये कहानी बिलकुल सच्ची है जो भी इसे झूट समझेगा उसकी माँ की चूत क्यूंकि मुझे तो बताना है और मैं बता के ही रहूँगा | तो चलिए दोस्तों चलते हैं हम उस दौर में जब मैं स्कूल में था और मुझे उन दोनों लड़किओं ने बिगाड़ना चालु किया था |

तो दोस्तों मैं पढता था उमा शाला में और वहाँ पे ज्यादा अच्छे बच्चे नहीं पढ़ते थे सब गाँव के और गरीब प[अरिवार के बच्चे थे | मैं भी गरीब था और मुझे पढने का बहुत शौक था इसलिए मेरे पिता ने मुझे वहाँ पे दाखिला दिला दिया | आज से दस साल पहले वहाँ की फीस करीब 10 रु महिना रही होगी | पर वो सरकारी स्कूल था और वहाँ की मान्यता भी थी इसलिए मैं मन लगाके पढता था | हमारे स्कूल के गुरूजी बहुत अच्छे थे हमलोगों को भले ही मेहेंगे स्कूल जितनी अच्छी सुविधा न मिलती हो पर हमको हमारे विषय में अच्छे से पढ़ाया जाता था | मेरे स्कूल में जो 12 वीं क्लास में पढ़ते थे उनमे से सारे के सारे बच्चे अच्छे अच्छे कॉलेज में चले गए और आज कई लोग अच्छी सरकारी नौकरी भी कर रहे हैं | मैंने भी सोचा था मैं भी उनके जैसा बनूँगा और उसके लिए मैंने बहुत मेहनत भी की और 10 वीं में अव्वल स्थान हासिल किया और उसके बाद जैसे ही 11 कक्षा में पहुंचा मेरी किस्मत के लौडे लग गए | उस क्लास में दो लड़कियां जो तीन बार फेल हो चुकी थी |

वो पहले तो अच्छी थी पर जैसे ही उनकी नज़र मुझ जैसे सीधे साधे बन्दे पर पड़ी उनकी नियत डोल गयी | अब मुझे वो परेशान करने लगी और मुझे क्लास में और स्कूल के बाहर भी छेड़ने लगी | मैंने अपने मास्साब से शिकायत की पर उसका भी कुछ असर नहीं हुआ क्यूंकि मैंने नहीं सोचा था वो इस हद तक गिर गयी होंगी | एक बार की बात है वो लोग क्लास में व्हिस्पर से खेल रही थी और जैसे ही मैं क्लास में गया और उन्होंने वो मेरे मुह पे लगा दिया | मैं रोने लगा पर मैं कुछ नहीं कर सकता था क्यूंकि लड़कियों और औरतों पे मैं हाथ नहीं उठाता | उनकी बदतमीजी लगातार बढती जा रही थी और एक बार तो मैं जब टॉयलेट गया था तब उन्होंने मुझे अन्दर ही बंद कर दिया | मैंने कई बार आवाज़ लगाई फिर कही जाके चपरासी ने दरवाज़ा खोला और मैंने सोचा इनकी शिकायत करना तो बेकार है इसलिए यहाँ से चले चलो | मैं बड़ा उदास हो गया था और अन्दर से टूट भी गया था क्यूंकि ऐसा मेरे साथ कभी हुआ नहीं था |

पर मुझे नहीं पता था ये सब ख़त्म होने की कगार पे है और असली मज़ा शुरू होने वाला है | एक दिन मैं टॉयलेट में था और वो दोनों भी टॉयलेट में आ गयी और चुपके से दरवाज़ा बंद कर दिया | एक ने मेरे हाथ पीछे से पकडे और दूसरी ने मेरा लंड हिलाना शुरू किया | मैंने कहा ये क्या कर रही हो और उसने कहा चुप रह मादरचोद मरवाएगा क्या | वो मेरा लंड हिला रही थी और थोड़ी देर बाद मेरा लंड खड़ा हो गया और उसने कहा अनीता देख साले का लंड कितना बड़ा है | उसने कहा हाँ यार इसको तो अपन अब हर बार अपनी चूत में लेंगे | मैंने कहा क्या बोल रही हो उसने कहा चुप और वो मेरा लंड हिलाने लगी | थोड़ी देर हिलाने के बाद मेरे लंड से माल निकला और मैं आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः करते हुए दो बार झड़ गया |

उन्होंने कहा वाह क्या माल है तेरा यार हम तो तुझे गलत समझ रहे थे तू तो हमारे बहुत काम का है | मैंने कहा यार क्या बोल रहे हो तुम लोग तो दूसरी लड़की सुनीता उसने मुझे किस किया और करती रही | 5 मिनट तक किस किया उसने और कहा बस आज से तुझे तंग नहीं करेंगे | तेरे साथ मस्ती करेंगे हमलोग बस समझा अब जा पढ़ाई करले | अब अगले दिन दूसरे पीरियड में मैं टॉयलेट गया और वो दोनों पीछे से आ गयी और कहा आए हाय देखो तो इस लंड को और इतना बोलके ही मेरा लंड सुनीता ने मुह में ले लिया | मेरा थोडा सा मूत उसके मुह में गिर गया | वो मेरे लंड को चोस रही थी और मेरा टोपा हटा के चाट रही थी | अनीता मेरे गोटे चूस रही थी और गांड चाट रही थी | मेरा लंड खड़ा हो गया तो मुझे भी मज़ा आने लगा | मैं आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः करने लगा और वो दोनों बारी बारी मेरा लंड चूसती रही | थोड़ी देर बाद मैं आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः करते हुए सुनीता के मुह में झड़ गया | फिर अनीता ने मेरा लंड चूसा और मैं उसके मुह में भी झड़ गया | फिर हम लोग चले गए और उन्होंने कहा कल तुझे जन्नत दिखाएंगे जल्दी आना |

अब तो मुझे भी मज़ा आ रहा था और अगले दिन मैं फिर उसी समय टॉयलेट में गया | अब वो दोनों आई और मेरा लंड खोला और मुझे पूरा नंगा कर दिया और चूस के मेरा लंड खड़ा कर दिया | फिर वो दोनों भी नंगी हो गयी और उन दोनों मेरे हाथों को अपने दूध पे रखा और कहा अब दबा इनको और पीना शुर कर | वो दोनों बारी बारी मुझसे अपने दूध दबवाने लगी और मैं उनके निप्पल को चूस रझा था | वो दोनों आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः करने लगी | फिर उन्होंने मेरा हाथ नीचे लगा दिया और मैंने कहा ये क्या है | उन्होंने कहा ये चूत है इसको अपने लंड से चोद | मैंने कहा ये गीली है | इतने में सुनीता मेरा मुह अपनी चूत पे लगा दिया और कहा चाट इसको | मैंने अपनी जीभ से चाटना चालु किया और वो अनीता की चूत चाटने लगी | दोनों आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः कर रही थी और मैं बारी बारी उनकी चूत चाट रहा था और वो दोनों आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः कर रही थी |

फिर अनीता ने मेरा लंड अपनी चूत के छेद में डाला और कहा मार ढाका और मैंने एक धक्के में पूरा लंड अन्दर कर दिया | उसके बाद मैं उसको धक्के मार मार के जोर जोर से चोदने लगा और अनीता सुनीता की चूत चटके ऊँगली से चोद रही थी | हम सब आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः कर रहे थे |

ऐसे ही मैंने दोनों को चोदा और चार साल तक चोदा जब तक मैं बाहर नही आ गया और अब मैं चुदक्कड़ बन चूका हूँ |

 

 

This entry was posted in Sex stories on by admin.

Leave a Comment